Breaking News

loading...

श्राद्ध स्पेशल : श्राद्ध में पितरो का पिंडदान इस विधि विधान से करने पर दूर होंगे लाखो संकट, सुख समृद्धि के साथ मिलेगी भरपूर तरक्की !!

आज हम आपको श्राद्ध में उचित तरीके से पूजा करने की विधि बताएँगे जिससे आप अपनी जिंदगी में भरपूर खुशियों के साथ सफलता प्राप्त कर सकेंगे ?


श्राद्ध का पावन पर्व शुरू हो गया, यह भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू हुआ जो अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलेगा इस दौरान पितरो का पिंडदान कराया जाता हैं जिससे आपके पितृदोष समाप्त हो जाये और परिवार में खुशिया बनी रहे। 


इस श्राद्ध में घर में पूजा पाठ करके पितरो को भोग लगाया जाता हैं,इससे पितरो का ऋण चुकता हैं लेकिन पितृ ऋण या दोष को दूर करने के लिए श्राद्ध में बहुत सी सावधानिया रखनी भी जरुरी होगी जिससे आपके घर में सुख-समृद्धि बनी रहेगी। 


* श्राद्ध का शुभ मुहूर्त दोपहर के समय रहता हैं इसलिए आप सुबह जल्दी या शाम को ना करे तो बेहतर होगा, इन 16 दिनों चलने वाले पर्व में ब्राह्मण को भोजन और दान देने से आपके सारे संकट दूर होते हैं। 


* पिंडदान के समय हमेशा जनेऊ सीधे हाथ में पकडे जबकि तुलसी साथ में रखे यह शुभ माना जाता हैं , पिंडदान के लिए काँसे, चांदी या ताम्बे के पत्तल का इस्तेमाल करे। 


* बाप का पिंडदान बेटे द्वारा करने पर ही उचित फल मिलेगा जबकि दक्षिण दिशा में मुख करके यह पिंडदान करे, इस दौरान आपको अपनी मन को शांत रखना चाहिए जबकि गाली गलोच ना करे। 

इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

No comments