Breaking News

loading...

सिमसा माता का एक ऐसा अनोखा मंदिर जहाँ जाते ही भर जाती है बरसो से सुनी गोद,मात्र तिल के तेल से खुश हो जाती है माता !!

हिमाचल प्रदेश में अनेक देवी देवताओ ने अवतार लिया है यहाँ की भूमि को देव भूमि भी कहा जाता है इनमे से एक है डरोह है वहाँ पर सिमसा माता का मंदिर है जो वह पर बहुत प्रसिद्व है जो लगभग दो दशक पुराण है इस मंदिर की वह के लोगो में  बहुत आस्था है।

Image result for simsa mata mandir pic

इस मंदिर  तक पहुंचने के लिए हमे  कांगड़ा जिले  के पालमपुर से 17 किलोमीटर की दुरी पर स्थित डरोह जिले में आना होगा जहाँ माता पिंडली रूप में विराजमान है जो अपने भक्तो की सभी मनोकामनाएं पूरी करती है  लेकिन सिमसा माता को संतान प्राप्ति के लिए पूजा जाता है।

Related image

वहाँ पर मात्र तिल के तेल से दीपक जलाने से  हमे संतान प्राप्ति होती है सिमसा माता के मंदिर की डरोह में स्त्थापना की कथा बहुत रोचक है  ये एक ऐसे दम्पति की कहानी है जिनके कोई संतान नहीं थी  उन्होंने सभी देवताओ की बहुत पूजा की  सभी डॉक्टर्स को दिखाया लेकिन उन्हें कोई फायदा नहीं हुआ फिर उन्हें कहीसे सिमसा माता मन्दिर लडभड़ोल की जानकारी मिली वो वहाँ पर गए और सच्चे मन से सिमसा माताकी की भक्ति करने में लग गए  और खूब दिन तक सेवा पूजा करने के बाद माता ने लगभग आठ सालो के बाद एक पुत्र प्रदान किया इसके बाद उन् लोगो की माता में आस्था और बढ़ गयी और वो उनकी सेवा भक्ति वैसे ही करते रहे।
Image result for simsa mata mandir pic

और जब उनका पुत्र एक साल को हो गया तो वो वापिस माता के मंदिर में गए उसका जडूला उतरने के लिए उसके बाद वो घर आ गए इन् बातों के दो दिन बाद ही  उनके दरवाजे पे एक कन्या भिक्षा मांगने  के लिए आयी

 Related image

वो नंगे पांव थी  और उसने फ़टे हुए कपडे पहन रखे थे उसने सिर्फ एक चीनी की कटोरी मांगी  लेकिन उन्होंने उस कन्या को भीखमांगने वाली समझ लिया और उसे पैसे देने लगे लेकिन उस कन्या ने पैसे लेने से मना कर दिया लेकिन वह पर रहने वाली पंडित की माताजी नई मानी और उसे जबरदस्ती पैसे देने लगी लेकिन जैसे ही पैसे देने के लिए उन्होंने अपना पर्श खोला उसमे फूल निकले। 

Image result for simsa mata mandir pic

इस बात  से उन्हें  बहुत  ही आश्चर्य हुआ ये बात उन्होंने सभी घरवालों से कहीं ऐसा सुनकर उनके सभी घर वाले बहार आये  वो कन्या बहार आँगन में ही खड़ी थी उन् लोगो ने उससे पूछा की आप कौन है तो कन्या बोली  की में लडभड़ोल से आयी हूं और में सिमसा हु ये बात सुनकर वो लोग हैरान हो गए थे उस कन्या ने कहा की आपके घर में जो लड़का हुआ है उसके हाथ से मुझे पानी  का एक लोटा  दिलाओ  उसके उस घर के सभी सदस्य  उस कन्या के  चरणों में झुक गए  फिर उसको रविंद्र ने एक लोटा पानी पिलाया।

Image result for simsa mata mandir pic

देवी ने कहा की में आपलोगो से भट प्रसन हु  आपके जैसे में और भी अपने भक्तो का कल्याण करना चाहती हु इसलिए मुझे तुम्हारे घर में स्थान चाहिए  फिर वो लोग उस कन्या एक कमरे लेके गए  वह पर माता ने अपने असली रूप के दर्शन दिए और वह अपनी दो उंगलियों से उस कमरे में दरार करदी उसके बाद वहां पर माता एक पिंडी के रूप में स्थापित  हो गयी  फिर दर्शन देकर सबको बोला की  इस स्थान पर जो भी आएगा  वो कभी खाली हाथ नई जायेगा और सभी मनोकामनाएं पूरी होगी  इसके  बाद माता अंतर्ध्यान हो गयी  जबसे लोगो को वहां के बारे में पता चला वहां पर भी भक्तो नो आना शुरू कर दिया  उन्हें भी संतान प्राप्ति होने लगी  फिर वहां पर भी  लडभड़ोल स्थापित मंदिर की तरह नवरात्री में जमीन पर सारी रात सोना होता था फिर माता उन्हें फल प्रदान करती थी पर पंडित जी घर छोटा होने के कारण वहां पर जगह कम पड़ने लगी।

इस पर वहां के पंडित जी ने माता की साधना की उससे माता उनके उनके स्वप्न में प्रकट हुई और उनसे कहा की जो विवाहित जिंदा मेरे मंदिर में आके तिल के तेल का दीपक जलाएगा उसे में संतान प्राप्ति होगी फिर 27 दिन के भीतरउनके स्वप्न में कोई फल दूंगी जिसे उन्हें एक साल तक छोड़ना होगा  अगर मैंने बच्चा दिया तो उन्हें मीट अंडे छोड़ने  पड़ेंगे तब से लेकर अब तक बहुत से लोगोकी माता ने मनोकामना पूरी कीहै संतान प्राप्ति का वरदान दिया है  अब ये मंदिर बहुत बड़ा हो गया इसकी प्रसिद्धि बहुत दूर दूर तक फैली हुई है।

इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

No comments