Breaking News

loading...

यहां जाने 14 या 15 किस दिन मकर संक्रांति ,सूर्य का इस महूर्त में इन मंत्रो से करे जाप मिलेगा भरपूर पुण्य

हमारे देश में मकर संक्रांति के पर्व का विशेष महत्व है जिसे हर साल जनवरी के महीने में महीने धूमधाम से मनाया जाता है। 

Image result for makar sankranti 2020

इस दिन सूर्य उत्तरायण होता है यानि की  पृथ्‍वी का उत्तरी गोलार्द्ध सूर्य की ओर मुड़ जाता है मान्यताओं के अनुसर इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है देश के अलग अलग राज्यों में इसे अलग अलग नमो से जाना जाता है   उत्तर प्रदेश में इसे खिचड़ी ,उत्तराखंड में घुघुतिया  या काले कौवा ,असम में बिहूऔर दक्षिण भारत में पोंगल नाम से जाना जाता है हालाँकि  अलग अलग राज्यों  में इसे मानाने का तरीका भले ही अलग हो लेकिन सब जगहों पर सूर्य की उपासना जरुरु की जाती है। 

Image result for makar sankranti 2020

लगभग  80 साल पहले उन द‍िनों के पंचांगों के अनुसार मकर संक्रांति 12 या 13 जनवरी को मनाई जाती थी, लेकिन अब व‍िषुवतों के अग्रगमन के चलते इसे 14 या 15 जनवरी को मनाया जाता है 2020 में इसे 15 जनवरी को मनाया जायेगा हम आपको मकर संक्रांति के तिथि और शुभ महूर्त की जानकारी देते है मकर संक्रांति या खिचड़ी की तिथि: 15 जनवरी 2020मकर संक्रांति पुण्‍य काल: 15 जनवरी 2020 को सुबह 7 बजकर 15 मिनट से शाम 5 बजकर 46 मिनट तककुल अवधि: 10 घंटे 31 मिनट। 

Image result for makar sankranti 2020

मकर संक्रांति महापुण्‍य काल: 15 जनवरी 2020 को सुबह 7 बजकर 15 मिनट से सुबह 9 बजे तक
कुल अवधि: 1  घंटे 45 मिनट। 

Related image
मकर संक्रांति के दिन सूर्य भगवान की इस तरह से पूजा की जाती है भविष्यपुराण के अनुसर इस दिन भगवान सूर्य का व्रत करना चाहिए ,तिल को पानी में डालकर इसे स्नान करना चाहिए हो सके किसी तिथ स्थल पर जाकर स्नान करे इसके बाद भगवान सूर्य नारायण की पूजा करे ,मकर संक्रांति को अपने पितरो का तर्पण जरूर करे 
आप इन मंत्रो स सूर्य नारायण की पूजा कर सकते है। 

Related image

1- ऊं सूर्याय नम: ऊं आदित्याय नम: ऊं सप्तार्चिषे नम:
2-  ऋड्मण्डलाय नम: , ऊं सवित्रे नम: , ऊं वरुणाय नम: , ऊं सप्तसप्त्ये नम: , ऊं मार्तण्डाय नम: , ऊं विष्णवे नम: 

इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

No comments