Breaking News

loading...

सूंदर कांड का पाठ करने का है ये सही तरीका ,यहां जाने क्या होता है सुंदरकांड का नियमित पाठ करने से

हनुमान जी को भक्तों का दुख दूर करने वाला देवता माना जाता है कहते हैं कि भगवान हनुमान जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता है। 


उनकी पूजा -पाठ में कुछ भी ज्यादा करने की जरूरत नहीं है सुंदरकांड भगवान हनुमान जी को अति प्रिय है तुलसीदास द्वारा सुंदरकांड  सबसे ज्यादा लोकप्रिय और महत्वपूर्ण माना गया है मान्यता है कि जो भी व्यक्ति नियमित अंतराल में घर पर सुंदरकांड का पाठ करता है उसे बजरंगबली का आशीर्वाद प्राप्त होता है आज हम आपको बताते हैं कि सुंदरकांड का महत्व इतना क्यों है उसकी करने की क्या विधि है। 


सुंदरकांड का पाठ करने से व्यक्ति के जीवन में कई सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते हैं जो भी जातक प्रतिदिन सुंदरकांड का पाठ करता है उसकी एकाग्रता और आत्मविश्वास में वृद्धि होती है सुंदरकांड का पाठ करने से व्यक्ति के अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है ऐसे में उसके द्वारा किए जाने वाले किसी भी काम का परिणाम हमेशा सकारात्मक ही मिलता इसलिए हर घर में अवश्य करना चाहिए सुंदरकांड का पाठ और नकारात्मक शक्तियां दूर चली जाती है। 



सुंदरकांड का पाठ विशेष फल प्राप्ति के लिए कर रहे थे इसकी शुरुआत मंगलवार या शनिवार के दिन से ही करनी चाहिए सुंदरकांड का पाठ करने से पहले स्वच्छता का काफी ध्यान रखें और पाठ करने से पहले हमेशा हनुमान जी की मूर्ति की विशेष रूप से पूजा करें साथ ही सीताराम जी की मूर्ति हनुमान जी के पास रखें हनुमान जी की पूजा फल मिठाई और सिंदूर से करे सुंदरकांड का पाठ शुरू करने से पहले गणेश वंदना जरूर करे पाठ करते  समय तुलसीदास द्वारा रचित रामचरितमानस की पूजा करनी चाहिए।



Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Bollywood Remind इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

No comments