Breaking News

loading...

एंटीबॉडी बन सकती है खून के थक्को का कारण,जाने एक्सपर्ट्स की राय

कोरोना वायरस महामारी के इलाज की खोज में वैज्ञानिकों ने कई नयी रिसर्चइन  दो सालों में कर ली है , इतिहास में शायद ही इतनी तेजी कभी कोई रिसर्च या वैक्‍सीन बनी होगी,क्योकि पहली बहार कोई वायरस इतनी जल्दी जल्दी म्‍यूटेंट हुआ होगा, इसी दौरान पहले वैक्‍सीन के साइड इफेक्ट्स के चलते खून के थक्‍के जमने की बाटे सामने आयी ,अब नायी शोध में संभावना जताई जा रही है कि एंटीबॉडी डेवलप होने के बाद खून के थक्‍के जम सकते हैं। 


एंटीबॉडी से खून के थक्‍के जमना बहुत बड़ी चिंता का विषय है, जिसके चलते एक्सपर्ट्स ने साफ़ किया कि एंटीबॉडी के कारण खून के थक्‍के नहीं जम सकते ,परन्तु दफा कोविड संक्रमण से ठीक होने के बाद भी उसके कुछ साइड इफेक्‍ट के चलते यह खून के थक्के जैम सकते है ,क्योकि जो लोग लॉन्‍ग कोविड से संक्रमित होते है उनमे कोविड के जहर के चलते खून में गाढ़ापन आ सकता है और खून के थक्‍के जमते हैं। 


कही कही फेफड़ों में प्‍लेटलेट्स की दर बढ़ने की बात भी सामने आई थी ,जिसके पीछे वजह बाटइ जाती है की प्‍लेटलेट्स खून का थक्‍का जमाते हैं और कोविड का पॉइजन प्‍लेटलेट्स को एक-दूसरे से चिपकाने लगता है, जिससे खून के थक्‍के जमने लगते हैं , ऐसे में खून पतला करने की दवा ी जा सकती है जो लंबे वक्‍त तक चलती है।


ब्रिटेन इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं  के मुताबिक अलग अलग दवाओं के कारण एक्टिव प्रतिक्रिया को कम किया जा सकता है, यह प्‍लेटलेट्स खून में  पाई जाने वाली बहुत  छोटी कोशिकाएं होती हैं जो ब्‍लड सर्कुलेशन को रोकने के लिए थक्‍के बनाती हैं। 


Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Bollywood Remind इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

No comments